बिहारराजनीति

एक भी सरकारी कार्यालयों एवं आवासों में प्रीपेड मीटर क्यों नहीं लगा – केशरी*

कमिश्नर, डीआईजी, डीएम एवं एसपी कार्यालय से हो प्रीपेड मीटर की शुरुआत)

*एक भी सरकारी कार्यालयों एवं आवासों में प्रीपेड मीटर क्यों नहीं लगा – केशरी*
(कमिश्नर, डीआईजी, डीएम एवं एसपी कार्यालय से हो प्रीपेड मीटर की शुरुआत)
प्रीपेड मीटर अगर इतना ही स्मार्ट है तो इसे पहले सभी सरकारी/अर्द्धसरकारी कार्यालयों में लगाया जाय और इसकी शुरुआत कमिश्नर, डीआईजी, डीएम एवं एसपी कार्यालयों एवं आवासों से की जाए।
उपर्युक्त बातें एनसीपी श्रमिक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष संजय केशरी ने शहीद स्मारक के समक्ष एकदिवसीय अनशन-सत्याग्रह कार्यक्रम का नेतृत्व करते हुए कहा। श्री केशरी ने आक्रोशित शब्दों में कहा कि प्रीपेड मीटर नहीं लगाने वाले उपभोक्ताओं को बिजली विभाग चोर समझना बंद करे क्योंकि खुद बिजली विभाग भी अपने कार्यालयों एवं आवासों में प्रीपेड मीटर नहीं लगा रहा है। एनसीपी नेता संजय केशरी ने कहा कि प्रीपेड मीटर का सीपीआरआई जांच रिपोर्ट अब तक सार्वजनिक नहीं किया जाना आक्रोश पैदा कर रहा है। वरीय नेता नरेश कुमार गुप्ता एवं मनोरंजन सिंह ने कहा कि प्रीपेड मीटर के साथ अत्यावश्यक मीटर रीडिंग सर्टिफिकेट भी नहीं दिया जा रहा है। महिला नेत्री संयुक्ता कुमारी एवं सोनी सिन्हा ने कहा कि बिजली विभाग पहले लाखों रुपए से ज्यादा बकाया राशि वालों के बाद ही छोटे-छोटे बकायेदारों की बिजली काटे। सत्यनारायण साह एवं सखीचंद यादव ने कहा कि शराबबंदी से हो रही आर्थिक नुकसान की भरपाई के लिए प्रीपेड मीटर के जरिए लोगों का खून चूसा जा रहा है।
अनशन-सत्याग्रह कार्यक्रम में आजाद शर्मा, शंकर यादव, बबलु गुप्ता, ललन सिन्हा, चन्दन गुप्ता, अजय प्रसाद, ललन बिंद एवं मनोज साह सहित अनेकों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close